संकाय एवं विभाग
       (i) शैक्षणिक, प्रशासनिक एवं अन्य जरूरतों के हिसाब से सोसाइटी के उद्देश्यों हेतु समय-समय पर संकाय, विभाग एवं पद का सृजन किया जायेगा ।
       (ii)अधोलिखित संकाय,विभाग आदि की संरचना संस्थान के अभिन्न अंग के रूप में की जायेगी।

संकाय एवं विभाग का विस्तृत विवरण
(क) अध्यात्म एवं हेतु-विद्या संकाय

इस संकाय की भूमिका प्राचीन भारतीय बौद्ध अध्ययन के पाली, संस्कृत एवं भोट भाषा के स्रोतों/शास्त्रों जो प्रचीन भारतीय बौद्ध तर्कशास्त्र भोटी भाषा में संरक्षित है का समन्वयन एवं नियंत्रण करना है। इसके तहत निम्न उपविभागों का विधान किया जायेगा-
       (i) भोट बौद्ध दर्शन विभाग
       (ii) थेरावाद दर्शन विभाग
       (iii) संस्कृत बौद्ध दर्शन विभाग

(ख) शब्द विद्या संकाय
इस संकाय का नियंत्रण एवं समन्वयन संस्कृत, भोट, पालि एवं आधुनिक भारतीय भाषा एवं साहित्य पर होगा। जिसके अधीन निम्न विभाग कार्यरत होंगे-
       (i) संस्कृत विभाग
       (ii) भोट भाषा विभाग
       (iii) पालि भाषा विभाग
       (iv) अंग्रेजी/आंग्ल भाषा विभाग
       (v) हिन्दी आंगल भाषा-विभाग

(ग) भोट चिकित्सा विद्या संकाय-
इस संकाय का नियन्त्रण एवं समन्वयन प्राचीन भारतीय आयुर्वेद एवं ज्योतिष जो भोट भाषा में पूरी प्रामाणिकता, समृद्धता एवं मूल स्रोत के रूप में संरक्षित है- पर होगा। इस संकाय के तहत निम्न स्वतंत्र विभाग की संकल्पना प्रस्तावित है-
       (i) हिमालयीय आयुर्वेद विभाग (सोवा रिग्पा)
       (ii) हिमालयीय ज्योतिष विभाग (त्शी)

(घ) शिल्प विद्या संकाय –
इस संकाय का नियंत्रण एवं समन्वयन प्राचीन भारतीय कला जैसे- स्थापत्य, चित्रकला, वास्तु एवं विभिन्न हस्तशिल्प जो पूर्वीय हिमालयीय क्षेत्र में विशेषत: परम्परागत एवं ग्रंथों में संरक्षित का अध्यापन करता है। इस संकाय के तहत निम्न स्वतंत्र विभाग की संकल्पना प्रस्तावित है-
       (i) हिमालयीय कला एवं शिल्प विभाग
       (ii) हिमालयीय अभिनय/प्रस्तुति कला विभाग

(ङ) लोक एवं आधुनिक विद्या संकाय-
इस संकाय के समन्वयन एवं नियंत्रण का आधार सामाजिक विज्ञान एवं विज्ञान के विभिन्न विषयों के अध्ययन से संबंधित होगा। इस संकाय के तहत निम्न स्वाधीन विभाग की संकल्पना प्रस्तावित है-
       (i) भोट बौद्ध इतिहास विभाग, राजनीति विज्ञान विभाग, अर्थशास्त्र विभाग, इतिहास विभाग, भूगोल विभाग, समाजशास्त्र एवं मानव विज्ञान विभाग।
       (ii) भौतिकी विभाग, वनस्पति विभाग, पर्यावरण विज्ञान विभाग एवं संगणक विभाग।